उपरिशायी

एयरपोर्ट अपग्रेड

Airport Upgrade

अंतरराष्‍ट्रीय एयरपोर्ट अपग्रेड योजना के नियम एवं प्रक्रिया

पूर्व शर्तें/प्रतिबंध:-

  • i. यात्री के पास बिज़नेस/इकोनॉमी श्रेणी की खरीदी हुई टिकट होनी चाहिए।
  • ii. (अगली श्रेणी में अपग्रेड की अनुमति है। इकोनॉमी से प्रथम श्रेणी में अपग्रेड की अनुमति नहीं है।
  • iii. इस योजना का लाभ उठाने के लिए यात्री के पास नीचे की श्रेणी की पुष्टिकृत टिकट होनी चाहिए।
  • iv. एयरपोर्ट अपग्रेड योजना को किसी अन्‍य योजना के साथ मिलाया नहीं जा सकता। उदाहरण के लिए कंपेनियन योजना को एयरपोर्ट अपग्रेड योजना के साथ मिलाया नहीं जा सकता।
  • v. इस योजना के लिए यात्रियों को एयरपोर्ट में लाउंज सुविधा दी जाती है।
  • vi. एयरपोर्ट अपग्रेड योजना के तहत बच्‍चों तथा शिशुओं को किरायों मे कोई छूट नहीं दी जाती।
  • vii. शिशु एवं बच्चों सहित सभी के लिए सभी सेक्टuरों हेतु वयस्कr यात्रियों के समान दरें लागू होंगी।
  • viii. भारत से एयरपोर्ट अपग्रेड राशि में जीएसटी कर सम्मिलित है।

प्रक्रियाएं

  • 1.यात्री देश में ही एडवांस में ईएमडी खरीदकर एयरपोर्ट अथवा एअर इंडिया सिटी कार्यालयों में एयरपोर्ट अपग्रेड राशि का भुगतान कर सकते है।
  • 2.गेटवे प्‍वाइंट से गंतव्‍य तक सीटें उपलब्‍ध होने पर ईएमडी का उपयोग कर एयरपोर्ट अपग्रेड कराया जा सकता है तथा अपग्रेड, गेटवे प्‍वांइट से गंतव्‍य तक दिया जाएगा ।
  • 3.ईएमडी का उपयोग एयरपोर्ट पर किया जाएगा {उदाहरण के लिए मुंबई-दिल्‍ली-न्‍यूयार्क (जेएफके)} जब मार्ग पर उल्लिखित गेटवे प्‍वाइंट से अपग्रेड कर लिया जाएगा।
  • 4.यदि यात्री एडवांस में ईएमडी खरीदता है तो यात्री को आरबीडी ज़ेड के लिए एग्ज़ेक्‍यूटिव श्रेणी में एसए आधार पर सूचीबद्ध किया जाना चाहिए। इससे एयरपोर्ट को उच्‍चतर श्रेणी के लिए भोजन की व्‍यवस्‍था करने में सहायता मिलेगी।
  • 5.यदि एयरपोर्ट अपग्रेड के लिए ईएमडी का उपयोग नहीं किया जाता है तो ऐसी ईएमडी की पूरी धनवापसी की जा सकती है।

सामान सीमा: - यात्री को बुकिंग की मूल श्रेणी के अनुसार सामान सीमा का लाभ दिया जाएगा। यात्रा की उच्‍चतर श्रेणी के अनुसार अधिक सामान ले जाने की अनुमति नहीं है।

एफएफपी माइलेज: - एफएफपी माइलेज प्‍वाइंट यात्रा की मूल श्रेणी के अनुसार दिए जाएंगे – उदाहरण के लिए इकोनॉमी श्रेणी के टिकटधारी यात्री यदि एयरपोर्ट अपग्रेड कराते हैं तो उन्‍हें इकोनॉमी श्रेणी के एफएफपी माइलेज प्‍वाइंट दिए जाएंगे।

थ्रू फ्लाइट लैग पर लागू होने की स्थिति :-

  • i.यदि यात्री बोर्डिंग प्‍वाइंट पर ही इम्‍मीग्रेशन/कस्‍टम क्‍लीयर कर थ्रू चेक-इन करते हैं, लेकिन उड़ान संख्‍या बदल जाती है, {उदाहरण के लिए एआई 011/एआई 101 अहमदाबाद-दिल्‍ली–न्‍यूयार्क (जेएफके)}, यदि यात्री अहमदाबाद से जेएफके के लिए थ्रू चेक-इन करता है तो एयरपोर्ट अपग्रेड योजना केवल दिल्‍ली-जेएफके लैग पर उपलब्‍ध होगी।
  • ii.तथापि, यदि यात्री एआई 101 अर्थात् मुंबई-दिल्‍ली-न्‍यूयार्क (जेएफके) पर मुंबई से यात्रा करता है तो यात्री मुंबई से ही पूरी यात्रा के लिए एयरपोर्ट अपग्रेड योजना का लाभ उठा सकता है क्‍योंकि पूरी यात्रा की उड़ान संख्‍या एक ही है।
  • iii.यदि यात्री नागपुर-दिल्‍ली–न्‍यूयार्क(जेएफके)/शिकागो की यात्रा कर रहा है तो यात्री को नागपुर-दिल्‍ली लैग के एयरपोर्ट अपग्रेड तथा दिल्‍ली—जेएफके/शिकागो लैग के एयरपोर्ट अपग्रेड के लिए अलग-अलग भुगतान करना होगा।
बंद करें

आप www.airindia.in की एक यात्रा साथी दौरा कर रहे हैं।

इस वेबसाइट एयर इंडिया के नियंत्रण में एक तीसरी पार्टी और नहीं के स्वामित्व और संचालित है।

आप अपने साथी के साथ सीधे एक समझौते में प्रवेश किया जाएगा. सभी अतिरिक्त संचार हमारे साथी द्वारा प्रदान ईमेल पता और / या फोन नंबर करने के लिए निर्देशित किया जाएगा।

आपके प्रश्नों / दावा है, किसी ने कहा कि वेबसाइट के आपके उपयोग से उत्पन्न, वेबसाइट और एयर इंडिया के मालिक के लिए पूरी तरह निर्देशित किया जाना चाहिए तो उस संबंध में जिम्मेदार और / या उत्तरदायी नहीं होगा।

जारी है

बंद करें

आप www.airindia.in के ट्रैवल पार्टनर की वेबसाइट पर जा रहे हैं।

यह वेबसाइट तीसरी पार्टी की है और उनके द्वारा प्रचालित की जाती है। इसका नियंत्रण एअर इंडिया के पास नहीं है।

आप को सीधे हमारे पार्टनर के साथ करार करना होगा। भविष्‍य में किए जाने वाले सभी पत्राचार हमारे पार्टनर द्वारा उपलब्‍ध कराए गए ई-मेल पते और/या फोन पर किए जाएं।

उक्‍त वेबसाइट का उपयोग करने से उत्‍पन्‍न किसी भी प्रश्‍न/दावे को सीधा वेबसाइट के स्‍वामी को भेजा जाए। इस संबंध में एअर इंडिया जिम्‍मेवार और/या उत्‍तरदायी नहीं होगी।

जारी है

Back to Top
Rate this site